Header Ads

banner image

'कथा सिर्फ़ यथार्थ से नहीं निभती, उसमें कल्पना का बड़ा योगदान है'

maati-manush-choon-book-launch
सोपान जोशी ने भारतीय नदियों के प्रति राजनीतिक उदासीनता को रेखांकित किया.
दिल्ली के इन्दिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केन्द्र में 17 जुलाई को पत्रकार व पर्यावरणविद् अभय मिश्रा के वाणी प्रकाशन द्वारा प्रकाशित पर्यावरण आधारित उपन्यास ‘माटी मानुस चून’ का लोकार्पण एवं परिचर्चा आयोजित की गई। कार्यक्रम में रामबहादुर राय, अध्यक्ष, आई.एन.जी.सी., डॉ. सच्चिदानंद जोशी, सदस्य सचिव व वरिष्ठ लेखक, प्रो. मौली कौशल, विभागाध्यक्ष, जनसंपदा विभाग, सोपान जोशी, घुमक्कड़ी परम्परा के अग्रज, युवा अग्रदूत, लेखक व पत्रकार ने पुस्तक पर अपने विचार रखे। कार्यक्रम का संचालन डॉ. रमेश चन्द्र गौड़, विभागाध्यक्ष कलानिधि, आई.एन.जी.सी. द्वारा किया गया। कार्यक्रम में प्रसिद्ध पर्यावरणविद् एवं रचनाकार अनुपम मिश्र की पत्नी श्रीमती मंजू मिश्र भी उपस्थित थीं। ज्ञात हो कि यह उपन्यास अनुपम मिश्र की आत्मीय स्मृति को ही समर्पित है।

मौली कौशल ने पर्यावरण की दयनीय स्थिति पर रोशनी डाली। उन्होंने कहा कि हालाँकि उपन्यास सन् 2074 में शुरू होता है, लेकिन पर्यावरण की दुर्दशा का चित्रण हमारे वर्तमान काल का है। गंगा सिर्फ़ नदी न रह कर हमारे समय की सबसे बड़ी त्रासदी बन कर प्रत्यक्ष है। साक्षी, तपन और गीताश्री की कहानी हमें दॉस्तोवस्की के कथानक की याद दिलाती है। पुस्तक में गिरमिटिया देशों में जन्मी नयी पीढ़ी के दर्द का आख्यान भी है।

सोपान जोशी ने भारतीय नदियों के प्रति राजनीतिक उदासीनता को रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि यह उपन्यास सामाजिक पत्रकार की क़लम से निकला है। यह भी जानना ज़रूरी है कि कथा सिर्फ़ यथार्थ से नहीं निभती, उसमें कल्पना का बड़ा योगदान है।

समाज की ओर से सवाल यूँ उठते हैं कि पर्यावरण के प्रति कोई संवेदना ही न हो। यह संवेदना कल्पना क्षेत्र में ही मुमकिन है। यदि चौमासे की तेज़ बारिश हिमालय से नहीं टकराती, तो भूतल नहीं बन पाता। यह पर्यावरण का संतुलन है। इस संतुलन का बिगड़ना और राजनीतिक उदासीनता हमारे समाज की सबसे बड़ी चुनौती है। इस उदासीनता को दर्शाना आसान नहीं, यह जोख़िम अभय ने उठाया है।
माटी मानुष चून : वेंटिलेटर पर ज़िन्दा एक महान नदी की कहानी>>

सच्चिदानन्द जोशी ने ‘जल से जुड़े’ अभय मिश्रा की तुलना तपस्वी भागीरथ से की जिन्होंने विश्व में गंगा की पवित्रता के लिये तप किया। नदियाँ सिर्फ़ पानी देने वाली या जीवनदायिनी नहीं हैं, हमारे समाज की आत्मा है। हमारी शिक्षा प्रणाली ने नदियों को एक भूगोल खण्ड ही बनाया, उनसे आत्मीय संबंध नहीं बनने दिया। यह हमारी शिक्षा प्रणाली की हार है। इन्दिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केन्द्र में ख़ास कार्यक्रम शुरू किये गये हैं जिनमें नदियों के प्रति सामाजिक समावेश किया गया है। वरिष्ठ पर्यावरणविद् अनुमप मिश्र को याद करते हुए सच्चिदानन्द जोशी ने अभय मिश्रा को उन्हीं की परम्परा का भविष्य माना।

जोशी ने एलिवन टॉफ्श्लर की 1970 में छपी पुस्तक ‘फ्यूचर शॉक’ का संदर्भ देते हुए कहा कि ‘माटी मानुष चून’ इसी लेखनी की पद्धति में नया पड़ाव है।

abhay-mishra-book-launch

राम बहादुर रॉय ने अध्यक्षीय वक्तव्य में कहा कि पुस्तक पढ़ते हुए इंटेलिजेन्स ऐजेन्सी के सबसे क़ाबिल अफ़सर मलय कृष्ण धर की याद आयी। ‘Gangland Democracy’ में धर ने ज़मीनी अपराधों का पर्दाफ़ाश किया है। ‘माटी मानुष चून’ भी इसी तरह गंगा नदी के प्रति हो रहे अन्याय को रेखांकित करती है। यह किताब गंगा नदी की ऐन्जियोग्राफ़ी है।

कार्यक्रम में सभी सम्मानित एवं श्रोताओं का धन्यवाद ज्ञापन करते हुए वाणी प्रकाशन के प्रबंध निदेशक अरुण माहेश्वरी ने कहा कि प्रसन्नता इस बात की है कि अब कार्यक्रम में पुस्तकों की चर्चा फ्लैप पढ़कर ही नहीं की जाती वरन् पुस्तक के पृष्ठ पर चर्चा की जाती है। ‘नदी के इर्द-गिर्द का समाज’ बुनकर एक नए तरह की उपन्यास की रचना की गई है।

यह स्वागत योग्य कदम है कि आज की युवा प्रतिभाओं एवं वरिष्ठ लेखकों द्वारा न केवल जीवन की समस्याओं पर वरन् पर्यावरण, संस्कृति भाषा, शिक्षा आदि विषयों पर बेहतरीन पुस्तकें लिखीं जा रही हैं। वाणी प्रकाशन द्वारा प्रकाशित, खोजबीन का आनंद, कुली लाइन्स, माटी मानुष चून आदि पुस्तकें अमेजॉन बिक्री केन्द्रों पर सफ़ल मानी जा रही हैं। इसी क्रम में ज्ञान का ज्ञान, माता हिमालय पिता हिमालय आदि पुस्तकें भी शीघ्र प्रकाशित होने वाली हैं।
mati-manush-choon-abhay-mishra
buy-the-hindi-book