Header Ads

banner image

दरियागंज की किताबी शाम में डॉ. संजय कुमार के साथ चर्चा

daryaganj-ki-kitabi-shaam
इस श्रृंखला की पाँचवीं कड़ी 20 जुलाई को आयोजित की जायेगी.
दक्षिण एशिया के सबसे बड़े और पुराने किताबी गढ़ 'दरियागंज' की विस्मृत साहित्यिक शामों को विचारों की ऊष्मा से स्पंदित करने के लिए वाणी प्रकाशन द्वारा एक विचार श्रृंखला 'दरियागंज की किताबी शाम' की शुरुआत की गयी है। इसमें विमर्श की ऊष्मा के साथ शामिल होगी गर्म चाय की चुस्कियाँ, कागज़ की ख़ुशबू और पुरानी दिल्ली का अपना ख़ास पारंपरिक फ़्लेवर।

इस श्रृंखला की पाँचवीं कड़ी 20 जुलाई को आयोजित की जायेगी। परिचर्चा का विषय है- 'कटिहार से केनेडी : राह जिसके मुसाफ़िर कम थे'। इस विषय पर संवाद करेंगे- डॉ. संजय कुमार से (मैथली दीवा) काजल कर्ण। कार्यक्रम डॉ. प्रेमचंद ‘महेश’ सभागार में शाम 4:30 बजे आयोजित होगा।

वाणी प्रकाशन के अंग्रेज़ी उपक्रम वाणी बुक कम्पनी से प्रकाशित 'कटिहार टू कैनेडी: द रोड लेस ट्रैवेल्ड' एक आम व्यक्ति की विशिष्ट यात्रा की कहानी है, जहाँ वह अपने संघर्ष और अथक परिश्रम के बल पर बिहार के छोटे से शहर कटिहार से निकलकर कैनेडी तक की यात्रा करता है। यह आत्मकथा एक व्यक्ति के आन्तरिक और बाह्य विकास की कथा है, जहाँ अपनी ग़लतियों से सीखते हुए वह आगे बढ़ता जाता है और अपनी प्रतिभा और जज़्बे के दम पर कैम्ब्रिज़ के हार्वर्ड कैनेडी स्कूल में दाख़िला ले पाने में सफल होता है। पुस्तक में उसकी अन्तर्यात्रा, उसका मनोविज्ञान, उसके जीवन के हार-जीत के क्षण इस तरह वर्णित किये गये हैं कि यह सिर्फ़ एक व्यक्ति की कथा नहीं रह जाती बल्कि उन सभी व्यक्तियों की कथा बन जाती है जो सीमित संसाधनों और अभावों के बीच भी निरन्तर ख़ुद को परिष्कृत करते रहते हैं और अन्ततः अपने लक्ष्य को प्राप्त करते हैं, तथा स्वयं के साथ-साथ समाज के वंचित समूह के विकास के लिए भी प्रतिबद्ध होते हैं।

Katihar to Kennedy को यहां क्लिक कर खरीदें : https://amzn.to/32Fvt0a

katihar-to-kennedy

लेखक संजय कुमार वर्तमान में द लक्ष्मी मित्तल एंड फ़ैमिली साउथ एशियन इंस्टीट्यूट, हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के भारतीय निदेशक हैं। कटिहार के डॉ. संजय कुमार को अमेरिका के हार्वर्ड विश्वविद्यालय ने मास्टर इन पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन में पीजी पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद मैसन फैलो उपाधि से सम्मानित किया है।

मैथिली दीवा के नाम से प्रसिद्ध काजल कर्ण अमेरिका में रह कर भी मिथिला का नाम रौशन कर रही हैं। काजल न सिर्फ़ एक बिजनेसवुमन है बल्कि अपनी ख़ूबसूरती का लोहा भी अमेरिका में मनवा चुकी हैं। यह अमेरिका में "मिसेज साउथ एशिया पॉपुलर" का ख़िताब जीत कर इतिहास रच चुकी है।

Katihar to Kennedy को यहां क्लिक कर खरीदें : https://amzn.to/32Fvt0a