Header Ads

banner image

मिरांडा हाउस में 'लोकनाट्य नौटंकी : संवाद और प्रदर्शन' का आयोजन

मिरांडा हाउस में 'लोकनाट्य नौटंकी
युवा पीढ़ी को अपनी लोक-परंपराओं से जोड़ने की ज़रूरत को इस आयोजन ने रेखांकित किया.
दिल्ली विश्वविद्यालय के मिरांडा हाउस में 'लोकनाट्य नौटंकी : संवाद और प्रदर्शन' का आयोजन कॉलेज के हिंदी विभाग और हिंदी नाट्य समिति अनुकृति के संयुक्त सौजन्य से किया गया। इस आयोजन का मक़सद विद्यार्थियों को उनके पाठ्यक्रम में लगे पारंपरिक रंगमंच से रूबरू करवाना था। साथ ही नाटक और रंगमंच से जुड़ी छात्राएँ इस कला-रूप को जानें एवं इस शैली में प्रस्तुति तैयार करने का उनमें उत्साह जगे।

कार्यक्रम दो खंडों में संपन्न हुआ। पहले खंड में लोकनाट्य नौटंकी के संदर्भ में संवाद था। संवाद खंड में 60-70 के दशक की हाथरस शैली की नौटंकी की चर्चित अदाकारा कृष्णा कुमारी माथुर, प्रसिद्ध रंगकर्मी प्रो. त्रिपुरारि शर्मा और चर्चित उपन्यासकार भगवानदास मोरवाल प्रमुख प्रतिभागी थे। इस खंड में कृष्णा जी ने नौटंकी में अपनी लगभग साठ वर्ष की यात्रा को बड़े दिलचस्प ढंग से सुनाया। उनकी इस यात्रा में नौटंकी के उतार-चढ़ाव भी शामिल थे।

नौटंकी विधा

त्रिपुरारि शर्मा ने अपने नाटक 'मौन एक मासूम-सा' को केन्द्र में रखकर नौटंकी के समकालीन प्रयोगों की संभावना और सार्थकता पर बात की। भगवानदास मोरवाल ने अपने उपन्यास सुर-बंजारन के लेखन की तैयारी के दौरान नौटंकी से जुड़े अनुभव साझा किए। नौटंकी का दूसरा खंड उसके प्रदर्शन से जुड़ा था। इस खंड में कृष्णा जी के साथ नौटंकी के वरिष्ठ गायक और वादक ताराचंद प्रेमी भी उपस्थित थे। कृष्णा जी और हीराचंद जी ने नक्कारे की धमक, ढोलक की थाप और हारमोनियम की सुर-तान के साथ नौटंकी के छंदों-दोबोला, चौबोला, लावनी, बहरतबील, बहरशिकस्त आदि की गायन-वादन की बारीकियों से दर्शकों को परिचित कराया। साथ ही नौटंकी की हाथरस शैली और कानपुर शैली के अंतर को भी समझाया। कार्यक्रम को उपस्थित दर्शकों ने क़ाफी चाव से देखा।

नौटंकी विधा को गंभीरता से लिया जाए और युवा पीढ़ी को अपनी लोक-परंपराओं से जोड़ने की ज़रूरत को इस आयोजन ने रेखांकित किया।