Header Ads

banner image

दिल्ली में 'मंटो’ की स्पेशल स्क्रीनिंग

राजकमल प्रकाशन 'मंटो' के जीवन पर आधारित फ़िल्म का 'पब्लिशिंग पार्टनर’ भी है.
सआदत हसन मंटो के जीवन और रचनाओं पर केन्द्रित, नंदिता दास निर्देशित और नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी अभिनीत फिल्म 'मंटो’ की स्पेशल स्क्रीनिंग राजकमल प्रकाशन समूह द्वारा पैसिफिक मॉल, आनन्द विहार में कराई गई। इस फिल्म में मंटो के पारिवारिक जीवन के साथ उनकी कहानियों पर चले मुकदमों और उनके जीवन के अन्य पहलुओं को भी बारीकी से दिखाया गया है। साथ ही उस दौर को भी जिसमें मंटो जिए-रहे।

दिल्ली और एनसीआर में रहनेवाले अनेक बुद्धिजीवियों और सुधी दर्शकों के लिए किए गए इस प्रदर्शन का उद्देश्य मंटो को लेखक और व्यक्ति के रूप में नजदीक से परिचित कराना था। ज्ञात हो कि राजकमल प्रकाशन इस फिल्म का 'पब्लिशिंग पार्टनर’ भी है। फिल्म के साथ ही राजकमल ने मंटो की पन्द्रह चुनिन्दा कहानियों का एक संकलन हिन्दी और अंग्रेज़ी में प्रकाशित किया है जिसके लिए कहानियों का चुनाव 'मंटो’ की निर्देशक नंदिता दास ने ही किया है। यह चयन उनकी मंटो-दृष्टि का परिचायक है और फिल्म के प्रोडक्शन हाउस तथा राजकमल के संयुक्त प्रयास के रूप में प्रकाशित हुआ है। फिल्म-प्रदर्शन के साथ इन पुस्तकों की प्रदर्शनी भी की गई।

rana safvi author

राजकमल प्रकाशन के प्रबन्ध निदेशक अशोक महेश्वरी ने इस मौके पर कहा कि हमारे लिए यह गर्व की बात है कि हम पब्लिशिंग पार्टनर के रूप में मंटो के जीवन पर बनी इस फिल्म से जुड़े हैं। इसके साथ आई पुस्तक इस फिल्म  को और मंटो को समझने में सहायक होगी।

राजकमल प्रकाशन के मार्केटिंग हेड अलिंद महेश्वरी ने कहा कि मंटो हमारे समय के लिए प्रासंगिक और प्रतिनिधि लेखक हैं, उन्हें अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना हमारा उद्देश्य है। यह फिल्म इस दिशा में एक बड़ा कदम है। यही वजह है कि हम इस फिल्म को अपनी ओर से भी दर्शकों तक लेकर गए हैं।

mamta kalia hindi author photo

पैसिफिक मॉल के कार्निवल सिनेमा की स्क्रीन-3 के खचाखच भरे सभागार में मौजूद लेखकों, समीक्षकों और साहित्य तथा सिने-प्रेमियों ने राजकमल प्रकाशन की इस पहल को सराहते हुए इसका स्वागत किया।