Header Ads

banner image

'भारतीय साहित्य में दूसरा गिरीश कारनाड नहीं है' - अशोक माहेश्वरी

ashok-maheshwari-photo
स्मृति सभा का आगाज गिरीश कारनाड पर आधे घंटे की डॉक्युमेंटरी से हुई.
अग्रणी साहित्यकार, रंगकर्मी व चिंतक गिरीश कारनाड की याद में राजकमल प्रकाशन द्वारा त्रिवेणी सभागार में शुक्रवार की शाम स्मृति सभा का आयोजन किया गया। गिरीश कारनाड की यादों को साझा करने वालों में विभिन्न नाट्यदलों के रंगकर्मियों के अलावा नृत्य, संगीत, सिनेमा और साहित्य से जुड़े लोग शामिल थे। मंच से भावपूर्ण श्रद्धांजलि व्यक्त करने वालों में एम.के. रैना, त्रिपुरारी शर्मा, भारत कारनाड, अरविन्द गौड़, अनवर जमाल, अशोक माहेश्वरी, देवेंद्र राज अंकुर, डीपी त्रिपाठी शामिल थे। कार्यक्रम का संचालन संजीव कुमार ने किया।

girish-karnad-photo

स्मृति सभा का आगाज गिरीश कारनाड पर आधे घंटे की डॉक्युमेंटरी से हुई। इस डॉक्युमेंटरी में कारनाड द्वारा उनके शुरूआती दिनों के संघर्ष के साथ-साथ उनकी शिक्षा एवं नाट्य लेखन, रंगमंच, सिनेमा में अभिरुचि तथा रोड्स विश्वविद्यालय के अपने अनुभवों के बारे में बहुत विस्तार से दिखाया गया है।

अग्रणी साहित्यकार गिरीश कारनाड की हिंदी में सभी पुस्तकें राधाकृष्ण प्रकाशन से प्रकाशित हैं। राधाकृष्ण प्रकाशन, राजकमल प्रकशन समूह का सहयोगी संसथान है। कारनाड के चर्चित नाटक हैं तुग़लक, अग्नि और बरखा, ययाति, हयवदन, बलि, शादी का एल्बम, बिखरे बिम्ब और पुष्प, टीपू सुल्तान के ख्वाब, रक्त कल्याण आदि। कारनाड के दो नाटक प्रकाशनाधीन हैं।
mk-raina-photo

गिरीश कारनाड के नाटकों के दौर को याद करते हुए एम.के. रैना ने कहा कि चाहे बाबरी मज्जिद विध्वंस, आपातकाल, धारवाड़ का ईदगाह और पत्रकार गौरी लंकेश हत्या मामला हो  गिरीश कारनाड हमेशा इनके विरोध में खड़े रहे।


एनएसडी की पूर्व निदेशक त्रिपुरारी शर्मा ने कहा कि वह उनके नाटकों को पढ़ते और देखते हुए बड़ी हुई और उन्होंने बचपन से ही काफी प्रभावित किया। उन्होंने कारनाड को एक निर्भीक और हठी व्यक्ति बताया जो उनके लेखन और नाटकों में भी झलकता है।

नाट्य आलोचक देवेंद्र राज अंकुर ने कहा कि गिरीश कारनाड ने आगे आने वाले नाटककारों के लिये रास्ते बना दिए हैं और साथ ही उन्होंने यह बताया कि सांस्कृतिक जगत के होने के बावजूद हमें सामजिक जिम्मेदारियों से नहीं बचना चहिए और आगे आकर लड़ना चहिए।

arvind-gaur-photo
वरिष्ठ रंगकर्मी और अस्मिता थिएटर ग्रुप के संस्थापक अरविन्द गौड़ ने भी गिरीश कारनाड के नाटकों पर प्रकाश डालते हुए उनकी प्रशंसा की। गौड़ ने कारनाड के व्यक्तित्व को महान बताया। साथ ही कहा कि कारनाड ने रंगमंच को नए आयाम दिए।

फिल्ममेकर अनवर जमाल ने अपने अनुभव साझा करते हुए कहा कि जब हम कोई पात्र या सीन बनाते थे तो गिरीश कर्नाड के बिना संभव नहीं हो पाता था और यह बात श्याम बेनेगल और सत्यजीत रे भी अच्छी तरह जानते थे।

राजकमल प्रकाशन के प्रबंध निदेशक अशोक माहेश्वरी ने कहा कि गिरीश कारनाड लोगों पर सहज विश्वास करने वाले एवं पक्के उसूलों वाले व्यक्ति थे। यह सत्य है कि भारतीय साहित्य में दूसरा गिरीश कारनाड नहीं है।