Header Ads

banner image

दरियागंज की किताबी शाम में सबा नक़वी के साथ चर्चा

daryaganj-ki-sham-saba-naqvi
कार्यक्रम 15 जून को वाणी प्रकाशन कार्यालय में शाम 4:00 बजे आयोजित किया जाएगा.
इस बार दरियागंज की किताबी शाम-4 में अपनी पुस्तक, पत्रकारिता की चुनौतियों और देश के वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य पर चर्चा करने के लिए वरिष्ठ पत्रकार सबा नक़वी मौजूद रहेंगी। उनसे बातचीत करेंगे युवा रचनाकार लव कनोई।

सबा नक़वी ने भाजपा के उद्भव से लेकर उसकी सत्ता-यात्रा को अपनी पुस्तक 'भगवा का राजनीतिक पक्ष-वाजपेयी से मोदी तक' में समाहित किया है। यह पुस्तक वाणी प्रकाशन ने प्रकाशित की है।

यह कार्यक्रम 15 जून, शनिवार को वाणी प्रकाशन कार्यालय स्थित डॉ. प्रेमचंद ‘महेश’ सभागार में शाम 4:00 बजे आयोजित किया जाएगा। इस चर्चा को आप वाणी के फेसबुक पेज पर भी लाइव देख सकते हैं।
saba-naqvi-luv-kanoi-vani

सबा नक़वी देश की जानी-मानी राजनीतिक विश्लेषक हैं, जिनकी दो किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं-इन गुड फेथ (2012; पहचान की राजनीति के दौर में भारत की बहुलवादी परम्पराओं की खोज) और कैपिटल कॉनक्वेस्ट्स (2015; आम जनता की पार्टी ‘आप’ के आकस्मिक उदय का अध्ययन)। लेखिका आउटलुक पत्रिका की पूर्व राजनीतिक सम्पादिका रह चुकी हैं और सम्प्रति स्तम्भ लेखिका हैं। वह चुनावी विश्लेषक, समीक्षक और टीकाकार के तौर पर टेलीविज़न का एक जाना-पहचाना चेहरा हैं। उनकी विशेषज्ञता का मूल क्षेत्र भाजपा है जिसे उन्होंने दो दशकों तक कवर किया है। अटल बिहारी वाजपेयी और नरेन्द्र मोदी, इन दोनों प्रधानमन्त्रियों के शपथ ग्रहण समारोह की चश्मदीद गवाह रहीं लेखिका ने भाजपा के उदय को अत्यन्त निकट से देखा है।

लव कनोई फ़िलहाल येल विश्वविद्यालय में शोधरत हैं। शुरुआती प्रशिक्षण उनको साहित्य में यादवपुर विश्वविद्यालय के अंग्रेज़ी विभाग में मिला था। आगे जाकर अशोक विश्वविद्यालय के यंग इण्डिया फेलो भी चुने गये थे।

विश्वविद्यालय के बाहर वह अन्यान्य क्षेत्रों में सलाहकारी का काम (बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप से अनेक निजी कम्पनियों को तथा हिमाचल प्रदेश सरकार को) कर चुके हैं। भाषा से गहरा लगाव है, और योगदान के तरह तरह के उपाय ढूँढते रहते हैं। दो किताबें (लातीन से अंग्रेज़ी अनुवाद तथा से बंग्ला से हिन्दी अनुवाद) प्रकाशित हो चुकी हैं।