Header Ads

banner image

विश्व पुस्तक मेला : नामवर सिंह ने तीन पुस्तकों का लोकार्पण किया

नासिरा शर्मा ने अपनी नई सीरीज़ ‘अदब में बाई पसली’ के तहत “एफ्रो-एशियाई कहानियाँ” से अंशपाठ किया.
delhi-book-fair-namvar-singh

विश्व पुस्तक मेले के पांचवे दिन राजकमल प्रकाशन स्टॉल पर लेखकों का जमवाड़ा रहा जहाँ सुप्रसिद्ध आलोचक नामवर सिंह ने तीन पुस्तकों का लोकार्पण किया जिनमें सुरेन्द्र नारायण यादव की “अलक्षित गौरव:रेणु”, रामसागर प्रसाद सिंह की पुस्तक “अलुआ बुलुआ और मैं” तथा साहित्यक पत्रिका “आलोचना त्रैमासिक”, वहीं दूसरे कार्यक्रम में आशा प्रभात का उपन्यास “मैं जनक नंदिनी” पर लेखक के साथ प्रेम भरद्वाज और प्रभात रंजन ने परिचर्चा की, साथ ही सूर्यबाला के उपन्यास “कौन देश को वासी” पर लेखिका से उषा किरण और चित्रा देसाईं ने उपन्यास पर बात की. नासिरा शर्मा ने छह खण्डों की अपनी नई सीरीज़ ‘अदब में बाई पसली’खंड 2 के तहत “एफ्रो-एशियाई कहानियाँ” से अंशपाठ किया.

लेखक रामसागर प्रसाद सिंह ने अपनी पुस्तक 'अलुआ बुलुआ और मैं' के बारे में बताते हुए कहा- “इस ग्लोबलाइज्ड दुनिया में जहाँ चारों ओर समरूपता का हठ पाँव पसार रहा है, ऐसे में अलुआ बुलुआ और मैं भरी दुपहरी में छावं की तरह है. आत्मकथात्मक शैली में लिखी गयी यह रचना व्यक्ति के साथ- साथ अपने समय, अंचल और ग्राम्य-संस्कृति की भी कथा कहती हैं”.

namvar-singh-vishwa-pustak-mela

आशा प्रभात का उपन्यास “मैं जनक नंदिनी” “राम-सीता” में समाहित सीता की व्यक्तिगत पहचान को मुखर करता है. वो सीता जिन्हें हमारे ग्रंथों में अलौकिक मान लिया गया, उन्हीं का लौकिक स्वरूप हमें इसमें देखने को मिलता है. जनमानस में आज तक सीता का मूक स्वरुप ही विद्यमान है. सौम्यरूपा आज्ञाकारी पुत्री का, जो बिना तर्क-वितर्क या प्रतिरोध किये पिता का प्रण पूरा करने के लिए पिनाक पर प्रत्यंचा चढ़ाने वाले वर के गले में माला पहना देती हैं. उनके मौन को ही अब तक महिमा मंडित किया जाता रहा है.

लेखिका नासिरा शर्मा ‘एफ्रो-एशियाई कहानियाँ’ पुस्तक के बारे में बताती हैं-“इस पुस्तक के पन्नों में विश्व-स्तर के लेखकों की कहानियों के जरिये जो प्रश्न उठाये गए हैं वे मानव समाज के बुनियादी प्रश्न हैं जो किसी भी देश और समाज के हो सकते हैं.


समय पत्रिका  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...