Header Ads

मेरा साईं नाथ नहीं आया

प्रभु की भक्ति में लीन और हर वक्त उनकी तलाश में रहते हुए युवा रचनाकार और शिक्षक असित की आस..

पल-पल खोजा
दर-दर ढूंढा
थक कर मैं हारा
मेरा साईं नाथ नहीं आया.

तू गोविंद मेरा, तू मेरा साईं
तू माता-पिता,
तू मेरा भाई, दूसरा न कोई
मेरा साईं नाथ नहीं आया.

मेरा साईं नाथ नहीं आया
ईश्वर तुम्हें खोज रहा हूं. आप कहां हो? एक बार आपके दर्शन की आस है.

तेरी प्रतीक्षा में
कब से हैं खड़े तेरे दर्शन को
पर तूने दर्शन न दिया
मेरा साईं नाथ नहीं आया.

माफ़ कर मुझको
साथ न छोड़ मेरा
मुझे क्यों तरसाया
मेरा साईं नाथ नहीं आया.

-असित समदर.


समय पत्रिका  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...