सर्वेश्वर दयाल सक्सेना का इब्न बतूता

sarveshwar-dayal-saxena-ibn-batuta

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना का जन्म उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में 15 सितम्बर 1927 को हुआ था.

उनकी कविता ‘बतूता का जूता’ आज भी बाल साहित्य की अनमोल धरोहर है.

वर्षों तक रेडियो से जुड़ने के साथ-साथ साहित्य रचते रहे.

1974 में लिखे नाटक ‘बकरी’ का लगभग सभी हिदुस्तानी भाषाओं में अनुवाद हुआ.

कविता संग्रह ‘खूंटियों पर टंगे लोग’ के लिए सर्वेश्वर दयाल सक्सेना को साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला.

मुख्य रचनायें :
पागल कुत्तों का मसीहा
खूंटियों पर टंगे लोग
कुछ रंग कुछ गंध
लड़ाई
कच्ची सड़क
काठ की घंटियां.


सर्वेश्वर दयाल सक्सेना के शब्दों में : 
"लीक पर वे चलें, जिनके चरण दुर्बल और हारे हैं,
हमें तो अपनी यात्रा से बने, ऐसे अनिर्मित पंथ प्यारे हैं."

निधन : 23 सितम्बर, 1983 को दिल्ली में निधन हुआ.

-समय पत्रिका.  

समय पत्रिका के ताज़ा अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज से जुड़ें. 

इ-मेल पर हमसे संपर्क करें : gajrola@gmail.com
सर्वेश्वर दयाल सक्सेना का इब्न बतूता सर्वेश्वर दयाल सक्सेना का इब्न बतूता Reviewed by Harminder Singh on September 15, 2015 Rating: 5
Powered by Blogger.